क्वार्टर फाइनल के लक्ष्य के साथ ईरान के खिलाफ जीत से अभियान शुरू करने उतरेगी भारतीय महिला टीम

नवी मुंबई, 19 जनवरी (फुटबॉल न्यूज़) फीफा विश्व कप में जगह बनाने के लक्ष्य के साथ मेजबान भारत गुरुवार को यहां महिला एएफसी एशियाई कप फुटबॉल के अपने पहले मैच में कम रैंकिंग वाले ईरान के खिलाफ जीत से अपना अभियान शुरू करने के लिये उतरेगा।

भारत 1979 के बाद पहली बार इस महाद्वीपीय टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहा है और वह 12 टीमों की इस प्रतियोगिता में कम से कम क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर इतिहास रचने और विश्व कप में जगह बनाने की अपनी उम्मीदों को मजबूत करने के उद्देश्य से मैदान पर उतरेगा।

भारत इस प्रतियोगिता में दो बार 1979 और 1983 में उप विजेता और 1981 में तीसरे स्थान पर रहा था।

ईरान के खिलाफ जीत से भारत का ग्रुप ए में तीसरा स्थान सुनिश्चित हो जाएगा। प्रत्येक ग्रुप से शीर्ष दो टीमों के अलावा तीनों ग्रुप में तीसरे स्थान की दो टीमें भी क्वार्टर फाइनल में जगह बनाएंगी।

ईरान इस ग्रुप में सबसे निचली रैंकिंग वाली टीम है। इस ग्रुप में चीन और चीनी ताइपे की टीम भी शामिल हैं। भारत रैंकिंग में 55वें जबकि ईरान 70वें स्थान पर है।

भारतीय टीम ने कोविड-19 महामारी के बावजूद पिछले साल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुछ मैच खेले। इनमें ब्राजील का दौरा भी शामिल है। इससे थामस डेनरबी की कोचिंग वाली टीम अच्छे अभ्यास के साथ मैदान पर उतरेगी। उसे हालांकि स्टार स्ट्राइकर बाला देवी की कमी खलेगी जो चोट से उबर रही हैं।

दूसरी तरफ ईरान ने पिछले छह महीनों में कोई मैच नहीं खेला है। वह पहली बार एशियाई कप में भाग ले रहा है।

डेनरबी गुरुवार को होने वाले मैच का महत्व समझते हैं क्योंकि टीम की निगाह नॉकआउट में जगह बनाने पर टिकी है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा पहला लक्ष्य क्वार्टर फाइनल में पहुंचना है। हमारे पास इसका अच्छा मौका है। उसके बाद कुछ भी हो सकता है। ईरान का रक्षण मजबूत है और हमारे लिये गोल करना चुनौती होगी। यह आसान मैच नहीं होगा। ’’

इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली सभी टीम फीफा विश्व कप 2023 के लिये सीधे क्वालीफाई करेंगी जो कि आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में खेला जाना है। यदि आस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में पहुंचता है तो क्वार्टर फाइनल में हारने वाली दो अन्य टीमों को विश्व कप में जगह बनाने का मौका मिलेगा।

इसका मतलब है कि क्वार्टर फाइनल में हारने वाली टीम भी यदि दो और चार फरवरी को होने वाले प्लेऑफ में जीत दर्ज लेती है तो वह भी सीधे विश्व कप के लिए क्वालीफाई कर सकती हैं। क्वार्टर फाइनल में हारने वाली दो टीम अंतरमहाद्वीपीय प्लेऑफ में भाग लेंगी।

ईरान की टीम में अनुभवी बेहनाज तहरखानी और फारवर्ड सारा घोमी के अलावा 22 वर्षीय स्ट्राइकर हजार डब्बागी पर सभी की निगाह रहेगी।

भारत के लिये अनुभवी अदिति चौहान गोलकीपर की जिम्मेदारी संभाल सकती है जबकि कप्तान आशालता देवी पर रक्षापंक्ति का जिम्मा होगा।

अनुभवी कमला देवी, इंदुमति काथिरेसन और अंजू तमांग मध्यपंक्ति का जिम्मा संभालेंगी, जबकि ब्राजील के खिलाफ गोल करने वाली मनीषा कल्याण भारत की ट्रंप कार्ड होगी।

भारत अब तक तीन बार ईरान से खेला है जिसमें उसे दो में जीत और एक में हार मिली।

इससे पहले टूर्नामेंट के शुरुआती मैच में चीन का सामना चीनी ताइपै से होगा। भारत और ईरान के बीच मैच शाम सात बजकर 30 मिनट पर शुरू होगा।

भाषा

ये भी पढ़े : एफसी गोवा ने आईएसएल में खराब रेफरिंग की शिकायत की

शेयर करे:

Leave A Reply

संबंधित लेख